स्‍वत्‍वत्‍याग

इस वेबसाइट पर विषय सामग्री की यथार्थता सुनिश्‍चित करने के लिए सभी प्रकार के प्रयास किए जाते है तथा इसे नियमकथन के रूप में नहीं बनाना चाहिए या किसी विधि कार्यों के लिए उपयोग नहीं करना चाहिए । केंद्रीय सड़क अनुसंधान संस्‍थान विषय सामग्री की यथार्थता, पूर्णाता, उपयोगिता या अन्‍यथा के संबंध में कोई जिम्‍मेदारी नहीं लेता है । उपयोग कर्ता को सलाह दी जाती है कि वेबसाइट पर दी गई किसी भी सूचना की संबंधित विभागों और / या अन्‍य स्रोतों से पुष्टि / जांच कर लें और सूचना पर कार्रवाई करने से पूर्व कोई उचित व्‍यावसायिक सलाह प्राप्‍त कर लें ।

वेबसाइट के उपयोग करने पर किसी भी मामले में भारत सरकार या केंद्रीय सड़क अनुसंधान संस्‍थान किसी भी प्रकार के व्‍यय, हानि या क्षति सहित, सीमारहित, अप्रत्‍यक्ष्‍ा या परिणाम स्‍वरूप हानि या क्षति या वेबसाइट के उपयोग करने से या उससे संबंधित होने वाली जो भी व्‍यय , हानि या क्षति या आंकड़े के उपयोग की हानि होती है, उसका जिम्‍मेदार नहीं होगा ।

इस वेबसाइट पर दूसरी वेबसाइटों के संपर्क केवल जन सुविधा के लिए दिए गए है । केंद्रीय सड़क अनुसंधान संस्‍थान संपर्कित वेबसाइटों की विषय सामग्रियों या विश्‍वसनियता के लिए उत्‍तरदायी नहीं है त‍था उनमें दिए गए व्‍यक्‍त किए गए दृष्टिकोण का अनिवार्य रूप से समर्थन नहीं करता । हम ऐसे संपर्कित पृष्‍ठों की पूरे समय उपलब्‍धता की गारंटी नहीं दे सकते ।

इस वेबसाइट पर प्रस्‍तुत की गई सामग्री को हमें मेल भेजकर ठीक प्रकार से अनुमति लेने के बाद बिना किसी प्रभार के पुन: प्रस्‍तुत किया जा सकता है । किन्‍तु यह सामग्री यथार्थ रूप में पुन: प्रस्‍तुत करनी है और इसे अनादर पूर्वक रीति या भ्रामक संदर्भ में प्रयोग नहीं किया जाना है ।

जहां कहीं भी सामग्री को प्रकाशित या दूसरों को जारी किया जा रहा है तो इसके स्रोत का स्‍पष्‍ट रूप से आभार व्‍यक्‍त करना आवश्‍यक है । यादपि इस में दी गई सामग्री को पुन: प्रस्‍तुत करने की अनुमति ऐसे किसी सामग्री को शामिल नही करेगी जिसे की तीसरे पक्ष के सार्वाधिकार के रूप में चिह्नित किया गया है । ऐसी सामग्री को पुन: प्रस्‍तुत का प्राधिकार संबंधित विभागों / सार्वाधिकार धारकों से लेना आवश्‍यक है।

ये निबंधन और शर्तें भारतीय कानूनों के अनुसार नियंत्रित होंगी और अर्थ लगाया जाएगा । इन निबंधन और शर्तों के अंतर्गत किसी भी प्रकार का विवाद होने पर वह पूर्णयता भारत के न्‍यायालयों के अधिकार क्ष्‍ेात्र के अधीन होगा ।